No icon

24hnbc

फीस का हो चुका था अग्रिम भुगतान फिर भी प्रबंधन उतार दिया छात्र को बस से

24hnbc.com
समाचार - बिलासपुर
बिलासपुर। निजी स्कूलों में छात्रों पर फीस पटाने के लिए जो हथकंडा न किया जाए वह कम है एक तरफ पालक महंगाई की मार से परेशान हैं किसी तरह बच्चों को अच्छी शिक्षा मुहैया कराकर उनका भविष्य किसी तरह सुरक्षित हो जाए के लिए दिन रात मेहनत करते हैं । एटीट्यूड दिखाने का दावा करने वाले बड़े अंग्रेजी माध्यम के स्कूल स्वयं कितने संस्कारी हैं इसका एक उदाहरण मस्तूरी रोड स्थित कैरियर पॉइंट स्कूल ने दिया। इस स्कूल की बस सुबह 7:00 बजे के आसपास बिलासपुर शहर में छात्रों को लेने आ जाती है घटना बिलासपुर पुलिस क्वार्टर के आसपास की है बारहवीं कक्षा का छात्र बस में इंटर हुआ किंतु बस में उपस्थित स्कूल के स्टाफ ने उसे फीस जमा नहीं होने का तगादा होते हुए नीचे उतार दिया छात्र उतर गया घर पहुंचा पिता छत्तीसगढ़ पुलिस महकमे में पदस्थ हैं और ड्यूटी के अनियमित टाइम टेबल के चलते इतनी सुबह पिता नहीं उठ पाते थोड़ी ही देर में छात्र ने पिता को उठा लिया तब तक बस जा चुकी थी। स्कूल न जाने बस में न बिठाले जाने की बात छात्र ने पालक को बताई पालक के लिए यह आश्चर्यजनक बात थी क्योंकि उन्होंने निर्धारित 3 माह की फीस जो कि ₹23000 से कुछ ज्यादा थी अग्रिम भुगतान की हुई थी, अतः उन्होंने अपने बालक को बाइक पर विठाला और सीधे स्कूल ले गए जहां पर प्रबंधन ने अपनी गलती स्वीकार कर ली इतना ही नहीं पालक को आने जाने का असुविधा भत्ता भी देना पड़ा अब सवाल यह उठता है कि फीस के संबंध में समय-समय पर शिक्षा विभाग ने एक नहीं दर्जनों निर्देश पत्र जारी किए हैं किंतु जैसे ही समय बितता है निजी स्कूल प्रबंधन अपने खूंखार दांत ना केवल दिखाने लगता है बल्कि छात्रों पर झप्पट्टा मारता है । इस संदर्भ में नेट पर उपलब्ध कैरियर पॉइंट के नंबर 98930 34360 पर जब संपर्क किया गया तो नितेश गोपाल जिन्होंने स्वयं को एडमिन मैनेजर बताया ने घटना से ही इनकार कर दिया। वैसे फीस के संबंध में स्कूल का पक्ष प्राचार्य रखते तो उचित होता किंतु नितेश गोपाल स्वयं को ही सही पक्ष रखने वाला बताया और कहा कि ऐसी कोई घटना स्कूल में नहीं हुई जबकि 12वीं के जिस छात्र के साथ ऐसा हुआ उसके पिता ने स्वयं ही पूरा वाक्य विस्तार से बताया है लेकिन हम पालक का नाम और छात्र का नाम इसलिए सार्वजनिक नहीं कर रहे हैं क्योंकि निजी स्कूल प्रबंधन नाम आईडेंटिफाई हो जाने पर अपने तरीके से नीचा दिखाने में कोई कसर नहीं छोड़ते. ..।